मोदी भक्‍त अखबार की हालत पतली

bhadas4journalist-logoमजीठिया मंच! खबर है कि दैनिक जागरण के प्रसार अधिकारी काफी परेशान हैं। परेशानी का सही -सही जानकारी तो नही मिल पाई है लेकिन पता चला है कि टाइम्‍स ऑफ इंडिया से आए जीएम भी परेशानी को दूर नहीं कर पा रहे।
सूत्रों और खबरों की माने तो पिछले दो-तीन महीने से दिल्‍ली और एनसीआर में अखबार की प्रसार संख्‍या तेजी से गिर रहा है। इसे राकेने के सारे प्रयास विफल होते नजर आ रहे हैं। गिरावट की दर इतनी तेज है कि अब तक यह 17 फीसदी तक पहुंच गई है। कुछ सर्वे कर रहे अधिकारियों का कहना है कि अखबार की नई पॉलिसी के कारण भी ऐसा हो रहा है। इस समय अखबार मोदीभक्‍त बना हुआ है। ऐसे में जब मोदी और इनका एक मुख्‍यमंत्री ओर एक वरिष्‍ठ नंबर वन मंत्री भ्रष्‍टाचार और एक भगोड़े आर्थिक चोर की मदद करने के आरोप में बुरी तरह फंसे हैं ,अखबार का रुख से पाठक दूर हो रहे हैं।
बताया जा रहा है कि इस समय अखबार का कुल प्रिंट ऑर्डर (पीओ) 4.61 लाख है। इस पीओ में फरीदाबाद , गुडगांव, गाजियाबाद, दिल्‍ली और नोएडा के अखबार शामिल है। इाल के सर्वे बताता है कि एक समय दैनिक जागरण की वापसी इन सभी शहरों को मिलाकर केवल 2 फीसदी था जो बढ़ते-बढ़ते अब 17 फीसदी तक पहुंच गया है।

loading...
Loading...
Loading...
loading...