वरिष्‍ठ पत्रकार बरखा दत्‍त ने ‘NDTV’ को दिया ये करारा जवाब…

वरिष्‍ठ पत्रकार बरखा दत्‍त ने अपने ब्रैंड नेम ‘MoJo’ (Mobile Journalism) के इस्‍तेमाल को लेकर अपने पूर्व नियोक्‍ता ‘एनडीटीवी’ (NDTV) की खिंचाई की है। बता दें कि हाल ही में बरखा ने अपना नया वेंचर ‘MOJO’ लॉन्‍च किया था।

एनडीटीवी के बयानों पर किए गए ट्वीट में बरखा दत्‍त ने कहा कि एनडीटीवी से अलग होने के बाद उन्‍होंने ‘मोजो’ को लॉन्‍च किया था और इस बैनर के चलते कई कार्यक्रम पहले ही किए जा चुके हैं।

If NDTV argues #Mojo generic name then so should be We The People from the Constitution. So NDTV will let me start a show by the same name?

— barkha dutt (@BDUTT) July 25, 2017

अपने ट्वीट में बरखा ने यह भी कहा है कि इस बैनर के तहत ‘Town halls with Karan Johar’, ‘Sri Sri Ravi Shankar’, ‘Facebook page’ और ‘You Tube channel’ आदि तैयार किए जा चुके हैं।

Town halls with Karan Johar, Sri Sri Ravi Shankar, Facebook page, You Tube channel all done under #Mojo @themojo_in banner

— barkha dutt (@BDUTT) July 25, 2017

अपने एक अन्य ट्वीट में बरखा दत्‍त ने कहा कि बताया गया है कि एनडीटीवी मोजो नाम से शो भी करेगा, तो क्या मेरी कंपनी वी द पीपल नाम से शो करें या कॉपीराइट सिर्फ मीडिया दिग्गजो के लिए ही है?

loading...
Loading...

Am told NDTV now has show called #Mojo. So guess @themojo_in should run a show called We The People. Or is copyright only for media barons?

— barkha dutt (@BDUTT) July 25, 2017

Rather problematic that unfortunate lay-offs be dressed up under borrowed brand name of company started by an ex-employee. @themojo_in

— barkha dutt (@BDUTT) July 25, 2017

no objection to form. available for use by all. But problem with brand names. Especially when no behemoth lets u use show names you created

— barkha dutt (@BDUTT) July 25, 2017

दरअसल, एक दिन पहले ही एनडीटीवी ने अपने जारी स्टेटमेंट में कहा था, ‘दुनियाभर के अन्य न्यूज ब्रॉडकास्टर की तरह एनडीटीवी भी मोबाइल जर्नलिज्म (MoJo) पर ध्यान केंद्रित करते हुए अपने न्यूज रूम और रिसोर्सेज का पुनर्गठन कर रही है। एनडीटीवी ने हमेशा प्रारंभिक स्तर पर ही नई टेक्नोलॉजी को ग्रहण किया है और हम (एनडीटीवी) देश का पहला नेटवर्क है, जिसने मोबाइल फोन का इस्तेमाल कर खबरों को शूट करने के लिए अपने पत्रकारों को प्रशिक्षित किया है। यह सिर्फ कॉस्ट-कटिंग नहीं है, बल्कि यह निश्चित रूप से हमारे लिए किसी भी अन्य बिजनेस की तरह या यूं कहें कि ऑपरेशंस का महत्वपूर्ण फैक्टर है।

Loading...
loading...