8 कैमरों में छिपा है कातिल, खुलासे के बाद साजिश हिला सकती है देश

मौका-ऐ वारदात पर न चाहते हुए भी कातिल निशान तो छोड़ता है लेकिन गौरी लंकेश हत्याकांड में कातिल 8 कैमरों में सबूत छोड़ गया है। ये सबूत आगामी कर्नाटक के चुनावों में निर्णायक साबित हो सकते हैं। पुलिस के एक अधिकारी ने इंडिया संवाद को बताया कि पत्रकार गौरी लंकेश के जिस्म में 4 गोलियां उतारने वाला कातिल जिन गलियों से उनके घर तक पहुंचा था, वहां 8 सीसीटीवी कैमरे मौजूद थे।

कातिल के लिए सबसे बड़ी ‘बदकिस्मती’ यह है कि मौका ऐ वारदात के आसपास के सारे कैमरे चालू थे और ये कैमरे बेहद साफ़ तस्वीरें रिकॉर्ड का रहे थे। हर कैमरा जैसे क़त्ल की रात कातिल को अपने लेंस में कैद करने के लिए बेताब हो। कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्दारमैया ने गौरी लंकेश हत्या मामले की जांच के लिए पुलिस महानिरीक्षक की अगुवाई में विशेष जांच दल (एसआईटी) के गठन की आज घोषणा की है।

एसआईटी चीफ माली कृष्णमूर्ति ने जांच के बारे में भले ही कोई जानकारी नहीं दी हो लेकिन गृहमंत्री का कहना है कि घटना स्थल के आसपास और प्रवेश-एग्जिट के रास्तों पर 8 कैमरे लगे थे और इन आठों ने कातिल को लेकर महत्वपूर्व सबूत कैद किये हैं। गृहमंत्री ने बताया कि शुरूआती सबूत मिल रहे हैं और जल्द ही कातिल के पीछे के मास्टरमाइंड भी देश के सामने होंगे।

सीएम ने क्या कहा ?

loading...
Loading...

जबकि सीएम का कहना है, ‘एसआईटी को जांच करने दें। अगर (गौरी के) परिवार के सदस्य ऐसा चाहते हैं तो मेरा विकल्प खुला है।’ सीएम ने कहा, ‘कलबुर्गी, पंसारे और दाभोलकर की हत्या में भी ऐसे ही हथियारों का इस्तेमाल हुआ था।’ सीएम ने बताया कि CCTV कैमरे के विडियो में गौरी गाड़ी से निकलकर दरवाजा खोल अंदर जाती दिख रही हैं। इसी बीच हमलावर उनपर फायर करता है। गौरी कुछ कदम चलकर गिर जाती हैं। सीएम ने बताया कि हमलावर ने फायरिंग के समय हेलमेट पहन रखा था।

सिद्धारमैया ने कहा, ‘दो लोगों ने गौरी लंकेश के खिलाफ फेसबुक पर कुछ पोस्ट किया था, उनसे भी पूछताछ हो रही है। वह (गौरी लंकेश) हाल ही में मुझसे मिलीं थीं, लेकिन किसी धमकी के बारे में नहीं बताया। पुलिस को निर्देश दिए गए हैं कि प्रगतिवादी विचारों का प्रसार करने वाले ऐक्टविस्ट्स को सुरक्षा दी जाए।’

इस बीच गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने गृह सचिव को निर्देश दिए हैं कि गौरी लंकेश हत्या मामले में कर्नाटक सरकार से रिपोर्ट मांगी जाए। गृह सचिव राजीव गौबा ने गृहमंत्री के निर्देश पर कर्नाटक सरकार से इस मामले की रिपोर्ट तलब की है।

Loading...
loading...