यूपी: आईजी नवनीत सिकेरा को थानाध्यक्ष ने दी गालियां!

4pm2लखनऊ। आईजी नवनीत सिकेरा ने सपने में भी नहीं सोचा होगा कि उनके चरित्र की धज्जियां एक थानाध्यक्ष उड़ा सकता है। गोमती नगर के थानाध्यक्ष और गाजीपुर के थानाध्यक्ष के बीच फोन पर हुई इस बातचीत की ऑडियो वायरल हो गया है और पूरे पुलिस महकमे में चर्चा का विषय बना हुई है।

नवनीत सिकेरा तेज तर्रार आईजी माने जाते हैं। यह भी माना जाता है कि वह सत्ता के काफी करीबी हैं। उनके विरोधी भी यह हिम्मत नहीं जुटाते कि उनके खिलाफ कोई ऐसी बात की जाए, जो उनकी शान के खिलाफ हो और उन तक पहुंच जाए। सबको पता है कि अगर सिकेरा को पता चल गया। तो उनके लिए परेशानी पैदा हो सकती है।

मगर गाजीपुर थानाध्यक्ष देवेन्द्र दुबे अपनी बातचीत में खुले आम कहते हैं कि सिकेरा की कोई औकात नहीं है। गोमती नगर के थानाध्यक्ष से हुई बातचीत में देवेन्द्र दुबे उससे एसएसपी के विषय में पूछ रहे हैं कि एसएसपी ने उनके विषय में तो कुछ नहीं कहा। साथ ही वह कहते हैं कि गायत्री प्रजापति का मामला आज ही खत्म होना बहुत जरूरी था वरना बड़ा नुकसान हो जाता।

इसी बातचीत में किसी दारोगा की रावानगी की बात भी सामने आती है कि वह अभी तक नहीं लौटा। अपनी शान दिखाने के लिए गाजीपुर का थानाध्यक्ष देवेन्द्र दुबे गाली देते हुए कहता है कि नवनीत सिकेरा ने भी अपनी एैसी-तैसी करा ली उसकी पोस्टिंग में, मगर क्या उखाड़ पाए। यह रिकार्डिंग कल वायरल हो गई। इसके बाद महकमे में हडक़ंप मच गया।

loading...
Loading...

यह पहली घटना थी जब कोई थानाध्यक्ष किसी आईजी को इस तरह गाली बकता हुआ दिख रहा हो। दरअसल देवेन्द्र दुबे पहले भी कई लोगों को बता चुके हैं कि जब वह विभूति खंड में तैनात थे तब डीआईजी रहे नवनीत सिकेरा ने घर की लाइट खराब होने पर एक इलेक्ट्रिशियन भेजने को कहा था और इसमें देरी होने पर वह नाराज हो गए थे। इस रिकार्डिंग से साफ होता है कि नाराज होने पर भी वह देवेन्द्र दुबे का कोई नुकसान नहीं कर सके थे।

इस मामले के तूल पकडऩे के बाद रात 10 बजे एसएसपी राजेश पाण्डेय ने एसपी ट्रांस गोमती को जांच के आदेश कर दिए। माना जा रहा था चूंकि मामला आईजी नवनीत सिकेरा से जुड़ा है लिहाजा जांच तुरंत होगी। आज सुबह 11 बजे एसपी ट्रांस गोमती से इस विषय पर पूछा गया तो उन्होंने बताया कि अभी तक उन्हें जांच का आदेश नहीं मिला है। विभाग के लोग भी हैरान हैं कि इतने संवेदनशील विषय पर भी अभी तक जांच शुरू नहीं हो सकी है। अलबत्ता देवेन्द्र दुबे ने अपनी पैरवी शुरू कर दी है।

साभार : 4PM (सांध्य दैनिक)

Loading...
loading...