हमेशा देश के खिलाफ लिखने वाली पत्रकार गौरी लंकेश का अंतिम संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ

हमेशा देश के खिलाफ लिखने वाली पत्रकार गौरी लंकेश का अंतिम संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ किया गया। गौरी का अंतिम संस्कार शहर के चामराज पेट कब्रिस्तान में हुआ। अंतिम संस्कार में मौजूद लोग ‘अमर रहे गौरी लंकेश’ के नारे लगा रहे थे। कन्नड़ पत्रिका ‘लंकेश पत्रिके’ की संपादक रहीं गौरी को इस दौरान बंदूक से सलामी दी गई। मंगलवार रात को अज्ञात हमलावरों ने गोली मारकर उनकी हत्या कर दी थी।

कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया, पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता वीरप्पा मोइली और प्रदेश के अन्य नेताओं ने चामराज पेट पहुंच कर गौरी को श्रद्धांजलि अर्पित की। सीएम ने गौरी की हत्या की जांच एसआईटी के कराने का आदेश दिया है।कन्नड़ फिल्म जगत के सदस्यों और ऐक्टिविस्ट्स के अलावा आम लोग भी गौरी को श्रद्धांजलि देने के लिए बड़ी संख्या में पहुंचे। अंतिम संस्कार के दौरान गौरी के परिवार के सदस्यों और दोस्तों की आंखें नम थीं।

 गौरी के भाई इंद्रजीत लंकेश ने बताया कि अंतिम संस्कार में किसी तरह की धार्मिक परंपराओं का पालन नहीं किया गया, क्योंकि वह रैशनलिस्ट थीं और हम उनकी विचारधारा के खिलाफ नहीं जाना चाहते थे। उन्होंने बताया कि गौरी की इच्छानुसार उनकी आंखें दान कर दी गई हैं।

राजधानी दिल्ली में गौरी की जघन्य हत्या से आक्रोशित सैकड़ों पत्रकारों ने स्थानीय प्रेस क्लब ऑफ इंडिया में विरोध प्रदर्शन किया। पत्रकारों ने गौरी के लिए इंसाफ की मांग की और असहमति की आवाजों को ‘दबाने’ की कोशिश कर रहीं ‘ताकतों’ से डटकर मुकाबला करने का आह्वान किया। प्रेस क्लब की ओर से कहा गया कि एक निडर और स्वतंत्र पत्रकार, जिन्होंने कई मुद्दों पर अपनी आवाज बुलंद की और इंसाफ के लिए खड़ी हुईं, उनकी आवाज को खामोश करने के लिए जघन्य तरीके से गोली मारकर उनकी हत्या कर दी गई।

loading...
Loading...

हिंदुत्ववादी राजनीति पर मुखर नजरिया रखने वाली 55 वर्षीय पत्रकार लंकेश की बेंगलुरु स्थित उनके आवास पर अज्ञात लोगों ने मंगलवार को गोली मारकर हत्या कर दी थी। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पार्टी उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने इस हत्याकांड की तीखी आलोचना करते हुये कहा कि यह वारदात समाज में लगातार बढ़ती असहिष्णुता और धर्मांधता का बदनुमा सबूत है। पत्रकार संगठन एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया ने भी लंकेश हत्याकांड की भर्त्सना करते हुये इसकी न्यायिक जांच की मांग की है।

Loading...
loading...