NDTV की एंकर पर भाजपा नेता परेश रावल ने लगाया झूठ बोलने का आरोप…

भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा द्वारा भाजपा के नेतृत्‍व वाली सरकार पर उठाए गए सवाल का मामला लगातार तूल पकड़ता जा रहा है। इस बात को लेकर अब ‘एनडीटीवी’ (NDTV) की एंकर निधि राजदान और भाजपा सांसद परेश रावल आमने-सामने आ गए हैं। दोनों ट्विटर पर एक-दूसरे पर पलटवार कर रहे हैं। यह मामला तब शुरू हुआ जब यशवंत सिन्‍हा ने एक अखबार में ‘I need to speak up now’ (मुझे अब बोलना ही होगा) शीर्षक से एक संपादकीय लिखकर वित्‍त मंत्री अरुण जेटली को आड़े हाथों लिया थ। इसके बाद यशवंत सिन्‍हा के बेटे जयंत सिन्‍हा ने अपने पिता की बात से असहमति जताते हुए कहा था कि मोदी सरकार की योजनाओं से विकास होगा।

जयंत सिन्‍हा के इस आर्टिकल को भाजपा ने ट्वीट किया था, जिसके बाद से इन दोनों के बीच यह विवाद शुरू हो गया।

पीएमओ के ट्वीट पर राजदान ने कहा था, ‘यह देखना वाकई रोचक है कि पीएमओ ने जयंत सिन्‍हा’ का आर्टिकल ट्वीट किया है। लगता है कि यशवंत सिन्‍हा द्वारा की गई आलोचना ने उनकी कमजोर नस पर हाथ रख दिया है।

अभिनेता से राजनेता बने परेश रावल ने इस पर आपत्ति जताई और ट्वीट करते हुए राजदान को लिखा, ‘उन्‍हें लगता है कि वे हमेशा सच बोल रही हैं, फिर चाहे वो झूठ ही क्‍यों न बोल रही हों।’

loading...
Loading...

इसके जवाब में राजदान ने उन्‍हें ‘लो लेवब ट्रोल’ कहते हुए कहा कि उनसे किसी भी तरह से अच्‍छी बात की उम्‍मीद नहीं की जा सकती है। राजदान का कहना था, ‘उन्‍होंने किसी भी तरह की बेहतरी की उम्‍मीद नहीं की थी और वह अर्थव्‍यवस्‍था से जुड़े किसी भी सवाल का जवाब नहीं देंगे।’

इसके बाद रावल ने चैनल पर निशाना साधते हुए कहा, ‘उन्‍हें खुशी होनी चाहिए कि मैंने अपना स्‍तर कम रखा है। इससे आप खुद को जोड़ सकते हैं और एनडीटीवी की अवैध डीलिंग के बारे में कुछ नहीं पूछेंगी।’  इसके बाद से रावल के ट्वीट पर राजदान ने कोई जवाब नहीं दिया है।

गौरतलब है कि इस साल के शुरुआत में सीबीआई ने करोड़ों रुपये के बैंक लोन के मामले में एनडीटीवी ग्रुप के प्रमोटर प्रनॉय रॉय और राधिका रॉय के विभिन्न ठिकानों पर छापे मारे थे।

Loading...
loading...