आरजेडी नेता और प्रखंड प्रमुख बबीता देवी और उनके पति बच्चा सिंह दल-बल के साथ पत्रकार और उसकी पत्नी की हॉकी से की खूब पिटाई

बिहार के सिवान में एक बार फिर कानून व्यवस्था को चुनौती देते हुए अज्ञात लोगों ने एक पत्रकार को अपना निशाना बनाया। दरअसल एक साल में यह दूसरा मामला है, जब सिवान में इस तरह की घटना सामने आई है। खबरों की माने तो, हाल ही में अब एक पत्रकार की हत्या की कोशिश गई। इससे पहले हिंदी दैनिक ‘हिन्दुस्तान’ के ब्यूरो चीफ राजदेव रंजन की हत्या कर दी गई थी।

ताजा मामले में भी एक राजनीतिक दल के दबंगों की संलिप्तता के आरोप लगे हैं। मामला नबीगंज ओपी क्षेत्र के पड़ौली साह टोला गांव का है, जहां पत्रकार धनेश सिंह और उनकी पत्नी पर हमले की कोशिश की गई।

खबरों की मानें तो, आरजेडी नेता और प्रखंड प्रमुख बबीता देवी और उनके पति बच्चा सिंह दल-बल के साथ पत्रकार धनेश सिंह के घर पर आ धमके। उन्होंने धनेश पर हमला बोल दिया। आरोप है कि प्रखंड प्रमुख के पुत्र मनु सिंह ने धनेश के सिर पर देसी पिस्टल सटा दिया। इसके बाद प्रखंड प्रमुख के पति ने हॉकी स्टिक से ताबड़तोड़ हमला कर दिया।

घटना में घायल होकर धनेश जमीन पर गिर गए। पति को बचाने आई पत्रकार की पत्नी आशा देवी के साथ भी मारपीट की गई। बबीता देवी के पुत्र ने आशा देवी पर चाकू से हमला कर घायल कर दिया। घटना के दौरान आशा के साथ बदसलूकी की गई। बताया जा रहा है कि जाते-जाते अपराधियों ने 10 हजार रुपए रंगदारी भी मांगी।

loading...
Loading...

पत्रकार और उनकी पत्नी की जोर-जोर से चिल्लाने लगे, जिसके बाद अपराधी वहां से भाग निकले। घायलों का इलाज नबीगंज प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में कराया गया। घटना को लेकर पत्रकार धनेश सिंह के बयान पर थाना में बबीता देवी समेत आधा दर्जन लोगों के खिलाफ एफआइआर दर्ज की गई।

धनेश के मुताबिक, घटना की वजह खबर को लेकर उपजा विवाद है।

गौरतलब है कि 42 साल के पत्रकार राजदेव रंजन की 13 मई 2016 को सिवान रेलवे स्टेशन के पास कुछ अज्ञात हमलावरों ने गोली मार कर हत्या कर दी थी। हिंदी दैनिक हिन्दुस्तान के सिवान ब्यूरो चीफ राजदेव रंजन के सिर और गले में लगी गोलियों के कारण उनकी मौत हो गई थी।

Loading...
loading...