यूपी मान्यता समिति पर उठे सवाल, निदेशक को हेमंत तिवारी ने लिखा पत्र

उत्तर प्रदेश मान्यता प्राप्त संवाददाता समिति के अध्यक्ष हेमंत तिवारी ने सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग द्वारा गठित की गई उत्तर प्रदेश मान्यता समिति पर चिंता व्यक्त की है और निदेशक को एक पत्र लिखा है। अपने पत्र में उन्होंने लिखा है कि 30 जनवरी को उत्तर प्रदेश मान्यता समिति की गठित की गई सूची देखकर बहुत आश्चर्य हुआ और दुःख भी, समिति में उत्तर प्रदेश मान्यता प्राप्त संवाददाता समिति के प्रतिनिधि के तौर पर दो पत्रकारों को मनोनीत किया गया है। उन्होंने सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के निदेशक से अपील की कि  उत्तर प्रदेश मान्यता प्राप्त संवाददाता समिति के दो और प्रतिनिधियों को प्रेस मान्यता समिति में स्थान दिया जाय, क्योंकि 2008 में जब अंतिम बार इस समिति का गठन हुआ था तब राज्य मुख्यालय पर मान्यता प्राप्त संवाददाताओं की संख्या करीब तीन सौ थी और प्रेस मान्यता समिति में इसके तीन प्रतिनिधियों को स्थान मिला था।

उन्होंने लिखा कि इस समय राज्य मुख्यालय पर मान्यता प्राप्त संवाददाताओं की संख्या उसकी करीब तीन गुना हो गयी है, जबकि एक प्रतिनिधि की कटौती कर दी गयी है। इसके अतिरिक्त उन्होंने यह भी अपील की कि राज्य मुख्यालय पर मान्यता प्राप्त फोटो जर्नलिस्ट की बड़ी संख्या होने के बावजूद उनका कोई भी प्रतिनिधि इस समिति में मनोनीत नहीं किया गया है। इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की भांति दो फोटो जर्नलिस्ट को भी इस समिति में मनोनीत किया जाना चाहिए।

loading...
Loading...

साथ ही इस मान्यता समिति में उर्दू अखबारों से मान्यता प्राप्त संवाददाताओं को भी शामिल किए जाने की मांग की है। वैसे चर्चा ये भी है कि इंडियन फेडरेशन ऑफ वर्किंग जर्नलिस्ट्स (IFWJ)के दो गुट हो जाने के बाद एक गुट को जिस तरह इसमें शामिल किया गया है, उसके चलते भी इस समिति पर सवाल उठ रहे हैं। 

Loading...
loading...