कोबरा पोस्ट के स्टिंग के डंक से बड़े-बड़े मीडिया समूह बिलबिलाये ( भाग एक )

कोबरा पोस्ट ने आज प्रेस क्लब आफ इंडिया में मीडिया पर आधारित एक स्टिंग आपरेशन के डिटेल शेयर किए और संबंधित सीडी सबके सामने चलाई. इस स्टिंग आपरेशन का नाम ‘ऑपरेशन 136’ है. इसके तहत कोबरा पोस्ट ने पैसे लेकर खबर चलाने के लिए तैयार कई मीडिया हाउसों का पर्दाफाश किया है.

कोबरा पोस्ट के स्टिंग आपरेशन में यह भी दिखाया गया है कि कई मीडिया समूह हिन्दुत्व के एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए पैसे लेकर राजनीतिक अभियान चलाने को तैयार हैं. कोबरा पोस्ट ने ‘ऑपरेशन 136’ नाम के अपने स्टिंग में दिखाया है कि देश के कई बड़े मीडिया समूह पैसे लेकर खबरें चलाने के लिए तैयार हैं. ये मीडिया हाउस इसके लिए काला धन भी लेने को तैयार हैं.

अपनी बड़ी तहकीकत में कोबरापोस्ट ने देश के कई मीडिया संस्थानों को पैसे के बदले हिंदुत्व का एजेंडा चलाने को सहमत होते पाया है। जिससे की चुनाव में लाभ पाने के लिए सांप्रदायिक ध्रुवीकरण भी हो सकता है। इसके अलावा ये संस्थान राजनीतिक विरोधियों को बदनाम करने के लिए तत्पर दिखे। इन संस्थानों ने पैसों के लिए इस तरह का दुर्भावनापूर्ण मीडिया campaign चलाने की बात कही। ऑपरेशन 136 के पहले भाग में हमने India TV, Dainik Jagaran, Hindi Khabar, SAB Group, DNA (Daily News and Analysis), Amar Ujala, UNI, 9X Media (Tashan), Samachar Plus, HNN 24X7, Punjab Kesari, Swatantra Bharat, ScoopWhoop, Rediff.com IndiaWatch, Aj Hindi Daily और Sadhna Prime News से जुड़े लोगों की बातचीत के प्रमुख अंश दिखाए है।

इंडिया टीवी

जितेन्द्र कुमार, डिप्टी वाइस प्रेजिडेंट(सेल्स); गौरव त्यागी, मैनेजर (एड सेल्स); सुदीप्तो चौधरी, Executive President Sales, इंडिया टीवी, नोएडा


देश के टॉप-5 न्यूज़ चैनल की सूची में शुमार इंडिया टीवी के करोड़ों दर्शक हैं। चैनल के मालिक रजत शर्मा ने साल 2004 में इस न्यूज़ चैनल की नींव रखी। पत्रकार पुष्प शर्मा की तहकीकात में सामने आया कि इंडिया टीवी में मार्किटिंग डिपार्टमेंट के वरिष्ठ अधिकारी पैसे के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं। सबसे पहले पुष्प की मीटिंग जितेन्द्र कुमार से हुई जो चैनल में डिप्टी वाईस प्रेजिडेंट (सेल्स) के पद पर तैनात हैं। इस मीटिंग में जितेन्द्र के साथ मौजूद थे मैनेजर (एड सेल्स) गौरव त्यागी। पुष्प ने इन दोनों को अपना एजेंडा बताया तो जितेन्द्र ने कहा, ये पॉलिटिकल जाएगा जो आप कह रहे हो ना हिंदुत्व पॉलिटिकल आ जाता है कनेक्शन… हमारे यहां नहीं है पर वो देखते हैं पॉलिटिकल की तरह है ना लोग कि हिंदुत्व को कि इंडिया टीवी चला रहा है हिंदू टीवी समझ रहे होहमारे प्रपोजल पर उत्सुकता दिखाते हुए आगे जितेन्द्र ने कहा कि सर इसमें हमें आपकी एक सपोर्ट चाहिए..ये चाहिए कि आप तीन महीने में जो तीन की बात कर रहे हैं उसमें डेढ़ महीने में डेढ़ करोड़ जो भी है वो हमें बिलिंग उसकी मार्च में चाहिए होगी ऐसा करने के पीछे जितेन्द्र ने वजह बताई कि टारगेट का प्रेशर तो वो एक टारगेट वगैरह का प्रेशर रहता है  जितेन्द्र के सहयोगी गौरव त्यागी ने हमारे एजेंडे के लिए इंडिया टीवी को बेस्ट प्लेटफॉर्म बताया और कहा, हर चीज़ को करने के लिए right medium  भी select करना भी उतना ही ज्यादा जरूरी है उधर जितेन्द्र ने भी गौरव की बात पर सहमति जताते हुए कहा, “India TV is a right platform”। अपने चैनल की बढ़ चढ़कर ब्रांडिंग में लगे गौरव ने कहा, ये आपकी जो requirement है वो आपकी जो आप करना चाहते हैं.. वो इंडिया टीवी में ही मिलेगी

जैसे पुष्प ने इन दोनों को अपने हिंदुत्व वाले एजेंड के बारे में बताया और 2019 के आगामी आम चुनाव के लिए इनसे अदद माहौल बनाने के लिए मदद मांगी जितेन्द्र और गौरव दोनों ने ही कहा, ये आएगा religion प्रमोशन में” “इसमें बहुत issue आएंगे बहुत..talk of the town बनेगा but issue बहुत आएंगे. तभी मैं कह रहा हूं पॉलिटिकल में आ जाएगा ये indirectly और directly  आ जाएगा ये और बाद में पुष्प को आश्वासन देते हुए कहा,कोई दिक्कत नहीं  जितेन्द्र इस डील को direct करना चाहते थे उन्होंने कहा, ये डील ना हम लोग direct करना चाहेंगे .. कोई दिक्कत तो नहीं है पुष्प ने कहा कि आप चाहे डील अपने हिसाब से कर लो लेकिन हिंदुत्व के एजेंडे पर कोई समझौता नहीं होना चाहिए। इस बात पर जितेन्द्र ने कहा,  Done  है  Sir done है  बोल दिया तो बोल दियाबिलिंग हम अपने according करेंगे थोड़ा टारगेट का बातचीत में आगे जितेन्द्र ने पुष्प से वादा किया कि वो उनकी मुलाकात चैनल के मालिक रजत शर्मा से भी कराएंगे, आपको मिलवाएंगे रजत जी से उनके ऑफिस में बढ़िया तरीके से

हिंदुत्व के बाद पुष्प ने इन दोनों से अपने अभियान के दूसरे चरण के बारे में चर्चा की और कहा कि हम अपने राजनीतिक प्रतिद्वंदियों का नाम बिगाड़कर उनपर हमला करेंगे। पप्पू जैसे नाम से उनका चरित्र हरण करेंगे। इसपर जितेन्द्र ने कहा कि लगे कि 2019 तक के लिए जा रहे हैं पुष्प ने इन से कहा कि अब आप मुझे एक प्रपोजल तैयार करके दें कि कैसे आप मेरे अभियान को अपने चैनल पर चलाएंगे इस पर जितेन्द्र ने कहा, आज मैं आपको शाम तक दे दूंगा । अब बात शुरू हुई पैसे के लेन-देन की, पुष्प ने कहा कि मैं इस डील के लिए फंड तभी दूंगा जब मेरी आपके चैनल के मालिक रजत शर्मा से मुलाकात हो जाएगी, जितेन्द्र ने इस पर कहा, सर वो directly कभी नहीं कहेंगे, वो कहेंगे हम आपके साथ हैं बस

इसके बाद पुष्प की मुलाकात हुई इंडिया टीवी के Executive President Sales सुदीप्तो चौधरी से, पुष्प को यकीन था कि उनकी टीम पहले से ही उन्हें इस अभियान के बारे में बता चुकी है। बातचीत के दौरान सुदीप्तो ने पुष्प से कहा कि हम लोगों की मीटिंग में internally बात हुई तो वो जो कमर्शियल है उसमें हल्का सा changes करने पड़ेंगे।  जब पुष्प ने इसकी वजह पूछी तो सुदीप्तो ने कहा कि ये एक बहुत धार्मिक मामला है ऐसे में हमारी लीगल टीम ने हमें ऐसा कंटेंट चलाने से मना किया है। उन्होंने कहा कि अगर हम ऐसा करते हैं तो बाकी घर्मों के लोग भी हमारे पास आकर उनके धर्मों के कंटेट चलाने की सिफारिश करेंगे। हालांकि चौधरी किसी भी कीमत पर इस कैंपेन को खोना नहीं चाहते थे लिहाजा वो पुष्प को disclaimer के बारे में समझाने लगे और बोले, एक disclaimer तो चला सकते हैं ना, disclaimer क्यों नहीं चला सकते हैं मैं बोल रहा हूं नाआखिर में उन्होंने ये भी कहा कि तो  I am saying कि  let it look like a proper. ये है न  last में रहेगा कि  you please call up so and so number and for to avail Geeta or books or log onto web site … खत्म करो तो  that is all I am asking.” सुदीप्तो चौधरी  ने डील पक्की करने में उत्सुकता दिखाते हुए कहा, अभी हम क्या करेंगे डील को structure कर लेते हैं letter head हमारे साथ हैं तो अभी print out भी लेते हैं, print out ले के आपसे साइन करा लेते हैं.. ठीक है हमें half an hour and 40 minutes दीजिए, हम लोग डील structure कर लेते हैं

इसके बाद सुदीप्तो चौधरी बकायदा एक डील तैयार कर पुष्प से दोबारा मिले, चौधरी ने अभियान के पहले चरण के लिए 16 करोड़ रुपये की पेशकश की। चौधरी ने बताया कि अगर आप हमारे साथ तीनों चरण की डील पक्की करते हैं तो इसके लिए आपको 48 करोड़ रूपये देने होंगे।

चौधरी फैसले लेने के मामले में काफी तेज़ हैं लिहाजा उन्होंने पुष्प से मिलने से पहले ही इस अभियान को लेकर चैनल की co-owner  रितु धवन से भी इज़ाजत ले ली थी। उन्होंने कहा, इसलिए कल जब हमारी बात हो रही थी हम लोगों से फोन पर.. आपसे बात किया हम लोगों ने सोचा देखो आप इतने बिजी हो आप गुवाहाटी, कोलकाता या फिर नागपुर जाओगे जो भी ऐसे हम expect करेंगे मेल भेज के अपना आराम से बैठे रहेंगे तो वो initiative नहीं होता है, let us take initiative और उसी वक्त हम ने बैठ के अपने पैसे से ticket कराई बॉस को मेल लिख दिया कि बॉस ओके.. जो भी लिखा-पढ़ी वाला काम है ना कागज वाला, she said ok ”

पुष्प ने एक बार फिर इस टीम से जानने की कोशिश की क्या वो उनका कट्टर हिंदुत्व का agenda चलाने के लिए राजी हैं। इस पर चौधरी ने सहमति जताते हुए कहा कि promote करेंगे ना हमने ये किया promote किया इसी बीच जितेन्द्र कहने लगे हमने अलग से कोई पैसा charge नहीं किया जो उसी में.. चौधरी ने समझाते हुए कहा, जो बेसिक रेट है उसी में चार्ज किया और उसमें पूरा साल के लिए क्या किया, everyday आपका 30 सेकेंड तक का 10 advertisement  चलेगा वो अच्छे से कर के हम आपको भेज देंगे आपको अच्छा पसंद भी आएगाइसके बाद पुष्प ने इनके सामने एक और शर्त रखी, और कहा कि आप जब पप्पू के ऊपर जिंगल चलाएंगे तो इस में राष्ट्रगान का इस्तेमाल करें ताकी दर्शकों पर एक संदेश जाए कि हम कितने बड़े देशभक्त हैं इस पर भी चौधरी एका-एक तैयार हो गए और इसके लिए इन्होंने हमें लीगल तरीका भी बताया, इन्होंने कहा, इसका legal तरीका भी है अगर मान लो एक लैटर आ जाए मेल आ जाएगा संगठन की तरफ से या भगवद गीता प्रचार समिति कि भाई we identify you कुछ प्रॉबलम होगा हम withdraw कर लेंगे। ये सारी बातें सामने आने के बाद पुष्प ने इन्हें हर तरह की मदद का भरोसा दिया और वहां से चल दिए.. अब इंडिया टीवी जैसे बड़े और नामी न्यूज़ चैनल की हकीकत भी आपके सामने है।

पुष्प की इंडिया टीवी के Deputy Vice President–Sales, Jitender Kumar से फोन पर भी बातचीत हुई जिसमें पुष्प जितेंद्र से मेनका गांधी, वरुण गांधी, मनोज सिन्हा और जयंत सिन्हा के अलावा गठबंधन की अनुप्रिया पटेल, उपेंद्र कुशवाह और ओमप्रकाश राजभर के खिलाफ़ ख़बर चलाने के लिए बोलते है जिस पर जितेंद्र कहते है, “ok, समझ गए मतलब जो मिले उसको कर दो मतलब दबाये न उसको। 

दैनिक जागरण

संजय प्रताप सिंह, एरिया मैनेजर (Bihar, Jharkhand, Odisha)

साल 1942 में आजादी की लड़ाई के दौरान शुरू हुआ हिन्दी अखबार दैनिक जागरण पिछले पच्चीस साल से भारत का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला दैनिक हिन्दी अखबार है। World Association of Newspapers (WAN) के मुताबिक दैनिक जागरण दुनिया के सबसे ज्यादा पढे जाने वाले अखबारों में से एक है। circulation के मामले में भी दैनिक जागरण भारत में दूसरे पायदान पर है। अपनी तहकीकात को आगे बढ़ाते हुए पत्रकार पुष्प की मुलाकात दैनिक जागरण अखबार के एरिया मैनेजर संजय प्रताप सिंह से हुई। संजय बिहार, झारखंड और Odisha में एरिया मैनेजर हैं। पुष्प शर्मा के हिंदुत्व एजेंडे को सुनने के बाद संजय ने पुष्प से कहा कि दैनिक जागरण हिंदुत्व के नाम से मशहूर है और ये आपके ऐजेंडे के लिए बेस्ट है।

पुष्प के डील के पेमेंट का बड़ा हिस्सा कैश में करने की बात पर भी दैनिक जागरण के संजय प्रताप सिंह न सिर्फ तैयार थे बल्कि बोले, हो जाएगा, Adjustment हो जाएगा”। संजय ने आगे पुष्प को आधा पेंमेंट कैश में कर GST से बचने का तरीका भी बताया और कहा, cash में आपका फायदा क्या होता है, जो भी होता है cash में एक तो आप दिखा नहीं पाएंगे…दूसरा क्या है कि उसमें हम लोग कर देंगे आपको, जो आपका GST का चक्कर है उससे भी बच जाएगा… Cash भी आता है तो 1 percent discount और जो हो सकता है वो भी हमें additional दे सकते हैं, तो ये सब factor हैंदेखिए हमारे को भी क्या होता है cheque लगा, एक नंबर में है तो वो बहुत सारा factor हम लोग देखते हैं”

बातचीत में संजय ने बताया कि बीजेपी विचारधारा की वजह से बिहार में पहले नितीश सरकार ने इनके विज्ञापन बंद कर दिये थे। संजय ने कहा, बिहार में तो 6 महीने विज्ञापन बंद था, फिर भी हम लोगों ने हिम्मत नहीं हारा और 6 महीना हम आपको बता रहे हैं 6 महीने 5 करोड़ वहां 1 करोड़ यहां, एक करोड़ यहां loss हुआ होगा… आराम सेढेड़ करोड़ का यहां Loss था और बिहार में 19 करोड़ का loss था, हम लोगों ने 20 करोड़ का  loss सहा लेकिन ऐसा नहीं है कि submit कर दिए”

संजय ने आगे बताया कि जब बिहार में बीजेपी की गठबंधन सरकार आई तो उनके अखबार को सरकारी विज्ञापन मिलने शुरू हो गए। संजय ने कहा, विचार धारा के साथ रहे और आपको ये भी बता दे रहे हैं कि हमारे editor और director हम लोग regular fly करते थे पटना, लोगों को support बनाए रखते थे, हुआ ये कि हम लोग commercial से डाल लेंगे फिर आई समय परिवर्तन हुआ BJP की सरकार गई…. एक दिन मैं एक जगह बैठा था, प्रभात खबर के लोग बैठे थे तो बोले की आप लोग तो घोषित कर दिए, हम बोल घोषित किए और आज आपके मुंह में मुठा घुसा कर के और अब हम विज्ञापन ले रहे हैं”

पुष्प के जिक्र करने पर संजय पश्चिम बंगाल में सरकार विरोधी खबरें करने के लिए के लिए तैयार थे और बोले, एक दम और दूसरा हम आपको कहां help करेंगे personally मेरे इतने सारे लोग हैं बंगाल में gents, ladies हर Form में हैं जो हर तरह का काम करते हैं, हर तरह का… आप जैसा बोलिएगा, अगर किसी के साथ सो के data लेना हो तो कर देंगे”

कैबिनेट मंत्रियों को टार्गेट करने के सवाल पर दैनिक जागरण के संजय प्रताप सिंह तुरंत बोले, वो भी हो जाएगा… सब हो जाएगा”। पुष्प ने जब Provocation की बात की तो संजय ने कहा, “provocation वाले मामले में वहां पर करिए जहां कम मुसलमान हैं”। संजय जिस तरह पुष्प की हर बात को मानने को तैयार थे, उसे देखकर अंदाजा लगाना मुश्किल नहीं कि अखबार के मैनेजमेंट में इनकी पकड़ कितनी मजबूत होगी।

हिन्दी ख़बर

अतुल अग्रवाल, एडिटर इन चीफ़

पुष्प की हिंदी खबर के एडिटर इन चीफ़ अतुल अग्रवाल से फोन पर भी बातचीत हुई जिसमें पुष्प अतुल से मेनका गांधी, वरुण गांधी, मनोज सिन्हा और जयंत सिन्हा के खिलाफ़ ख़बर चलाने के बारे में बात करते हैं। इस पर अतुल न सिर्फ तैयार है बल्कि कहते हैं, “तो आज से काटना शुरू कर देते हैं इनको। जी इन लोगों को आज से गिराना शुरू आचार्य जी मैं आपको link भेजता जाऊंगा गिरा गिरा के इन को”। इस बातचीत के बाद एक बार फिर शर्मा की हिंदी खबर के एडिटर इन चीफ़ अतुल अग्रवाल से फोन पर बातचीत हुई। मेनका गांधी, वरुण गांधी, मनोज सिन्हा और जयंत सिन्हा के character assassination की बात पर अतुल ने कहा, “देखिये अभी आपको एक Link भेजा है उस में हमने छपवाया है कि योगी के 7 दुश्मन और योगी हारे नहीं योगी को हरवाया गया है, ये हमारी line थी”

https://www.facebook.com/HindiKhabar/videos/807902512731675/

इस बातचीत में पुष्प के ये कहने पर कि कोबरापोस्ट बड़ा परेशान कर रहा है। अतुल अग्रवाल ने कहा, “कोबरा पोस्ट को अपन बंद करवा रहे हैं”। अतुल यही नहीं रुके और आगे बोले, “तो कोबरा पोस्ट में क्या हुआ कि अभी इन को wind up  करने की सोची है तो अगर आप कहें तो हम शुरू कर देते हैं आज से इनकी डिजिटल टीम पूरी तोड़ देते हैं खत्म कर देते हैं चूंकि परेशान वो डिजिटल टीम  की वजह से ही कर रहे हैं लोगों को”

SAB Group

पार्थसारथी कुलिया, एसोसिएट वाइस प्रेजिडेंट (सेल्स); डिंपल दुग्गल, सीनियर मैनेजर (सेल्स); हेमलता येदेरी, ग्रुप सेल्स हेड; कैलाशनाथ अधिकारी,  श्री अधिकारी ब्रदर्स टेलीविज़न, मुंबई

SAB Group आज किसी पहचान का मोहताज नहीं, तीन दशकों से ये अपने मशहूर धारावाहिकों के जरिए लोगों को हंसा रहा है और करोड़ों दिलों पर राज कर रहा है। साल 1985 में इस चैनल की शुरूआत हुई थी। पुष्प शर्मा ने चैनल के वरिष्ठ अधिकारियों से मुलाकात कर एजेंडा पर चर्चा कर ये जानने की कोशिश की कि कैसे कॉमेडी में महारथ रखने वाले ये लोग क्या कॉमेडी की आड़ में हमारा मकसद पूरा कर सकते हैं? हैरानी वाली बात ये है कि ये सभी अधिकारी हमारे एजेंडे को मानने के लिए राजी दिखे।

पुष्प की मुलाकात सबसे पहले पार्थसारथी कुलिया से हुई जो यहां पर एसोसिएट वाइस प्रेजिडेंट (सेल्स) की भूमिका पर कार्यरत है इस मीटिंग में सेल्स डिपार्टमेंट के ही सीनियर मैनेजर डिंपल दुग्गल भी मौजूद थे। जैसे ही पुष्प ने इन्हें एक-एक कर अपना एजेंडा बताना शुरू किया कुलिया ने “ji”, “right” “okay” जैसे शब्द कहकर इनकी बातों का समर्थन किया। हिंदुत्व के पहले चरण को समझाने के बाद पुष्प ने इन्हें अपने एजेंडा का दूसरा चरण बताया..यानि मोहन भागवत, उमा भारती और विनय कटियार जैसे कट्टर हिंदुवादी छवि वाले बड़े और नामी नेताओं का डिजिटल प्लेटफॉर्म के जरिए प्रचार-प्रसार। इसपर भी कुलिया “ji”और “okay” कहते नज़र आए। कुलिया इस बात को जानते थे कि ये कितने बड़े नेता है क्योंकि उन्होंने कहा, “But this is the very important name आप जिस तरह से प्रोजेक्ट कर रहे हैं, “these are the very important names of 2019 elections.” अब पुष्प ने अपने तीसरे और आखिरी चरण के बारे में चर्चा करते हुआ कहा कि आपको हमारे राजनीतिक प्रतिद्वंदियों को खत्म करना होगा, पुष्प ने यहां जब पप्पू वाले जिंगल के बारे में बात की तो कुलिया ने पूछा, जी That is specific state रहेगा पुष्प ने इन्हें बताया कि जो अभी आपने जिंगल सुना वो कर्नाटका के लिए बनाया गया है लेकिन हमारा कैंपेन 2019 के आम चुनाव को लेकर है। कुलिया ने फिर पूछा, You mean, that is all India,” इसके बाद पुष्प शर्मा ने इन्हें बताया कि हमारी सबसे बड़ी प्रतिद्वंदी कांग्रेस है। कुलिया जानना चाहते थे कि ये कैंपेन कैसा होगा When talking about all India so that is not specific related to … No. Congress तो बहुत दूर आ जाएगा  Sir मान लीजिये  Bihar, UP ऐसा कुछ नहीं रहेगा ना … That is in general रहेगा ना पुष्प ने इन्हें बताया कि इन्होंने बिल्कुल ठीक समझा है। कुलिया अब ये जानने को बेताब थे कि ये कैंपेन कब से शुरू हो रहा है इन्होंने पुष्प से पूछा सर, ये आप कब से tentative प्लान कर रहे हैं पुष्प ने बताया फरवरी के पहले हफ्ते से। साथ ही पुष्प ने कहा कि जैसे ही हमारी डील पक्की हो जाएगी हम फौरन फंड भी रिलीज़ कर देंगे। अब ये आपके ऊपर है कि आप कब से ऐसा करने के लिए तैयार होते हैं। कुलिया ने पूछा, तो आप अप्रैल से टारगेट कर रहे हैं इसी बीच बाजू में बैठे इसके सहयोगी डिंपल ने इन्हें समझाते हुए कहा, “first week of feb से पुष्प ने कुलिया को बताया कि ये अभियान हर तीन महीने के चरण में होगा।

इन दोनों अधिकारियों से बात करने के बाद पुष्प शर्मा ने ‘सब’ चैनल की ग्रुप सेल्स हेड हेमलता से मुलाकात की..इस पर हेमलता ने पुष्प को कहा कि वो इस अभियान की योजना बनाकर उनसे फिर मिलेंगी “As long as we understood objectives, which he will brief me later, we will come back to you. It’s a plan which you will feel my objective is served.” पुष्प ने कहा कि ये बेहतर होगा कि मैं आपको इस प्लान के बारे में पहले बताऊं। दरअसल हम 2019 के आम चुनाव को लेकर टारगेट कर रहे हैं। इसी बीच हेमलता ने पुष्प को रोकते हुए कहा, “Don’t repeat. It’s okay. No problem” इससे साफ जाहिर होता है कि हेमलता को उनकी टीम ने ये सब पहले ही बता दिया था। बावजूद इसके पुष्प ने इन्हें समझाने की कोशिश की और बताया कि वो पहले तीन महीने सिर्फ हिंदुत्व का प्रचार-प्रसार करेंगे। इस पर हेमलता ने सहमति जताते हुए कहा, ठीक हैं पुष्प के ये कहने पर कि ये सब बहुत ही गुप्त तरीके से किया जाना है इसमें कहीं भी संगठन का नाम नहीं आना चाहिए इसपर भी हेमलता ने सहमति जताई और कहने लगीं “It will be subtle communication nowhere show politics in it that what you want to say.”

2000 करोड़ की संपत्ति वाले सब टीवी में ये सबसे ऊंची पहुंच वाले लोग हैं जो इस तरह की डील कर रहे हैं। जाहिर सी बात है कि अब पुष्प के लिए group के कैलाशनाथ अधिकारी से मिलना भी मुनासिब हो गया था। अधिकारी से मुलाकात में पुष्प ने बताया कि अभियान को लेकर वो सारी बातचीत उनकी टीम के वरिष्ठ अधिकारियों से कर चुके हैं लेकिन यहां हेमलता ने पुष्प को कहा कि आप दोबोरा बॉस को ये सब बताएं, इसके बाद पुष्प ने ग्रुप के मालिक कैलाशनाथ अधिकारी को अपने अभियान के बारे में विस्तार से बताना शुरू किया। पुष्प ने बताया कि हम 2019 के आम चुनाव को टारगेट कर एक ऐसे एजेंडे पर काम कर रहे हैं जो भगवद् गीता और भगवान कृष्ण को बढ़ावा देने के साथ-साथ पार्टी के लिए एक अनुकूल माहौल बनाएगा। इस पर अधिकारी ने तुरंत हामी भरते हुए कहा, बिल्कुल  that’s why I am discussing क्योंकि अब आपके अभी जो छवि है छवि है ना … अब अगर  आपको छवि बदलनी है तो अभी आपको aggressive हो कर काम  करना पड़ेगा … शुरुआत करना पड़ेगा  जल्दी शुरू करना होगा”पुष्प शर्मा हिंदुत्व के जिस एजेंडे को वोट बटोरने के लिए इस्तेमाल करने की बात कह रहे थे उसकी तारीफ करते हुए अधिकारी ने कहा, “Silent penetration” चर्चा के दौरान बातें राजनीति पर हुईं तो अधिकारी ने पुष्प से कहा गया था कि एंटनी की रिपोर्ट में कहा गया है कि कांग्रेस बहुमत से बाहर है और इससे उसकी छवि खराब हुई है। अपनी सांप्रदायिक सोच को दर्शाते हुए अधिकारी ने कहा कि उसी को damage करेगाआप  anti-majority आप  majorityism को ही पकड़ के चलिए

पुष्प ने अपने अभियान के दूसरे चरण का जिक्र करते हुए अधिकारी को इसके बारे में बताना शुरू किया कि कैसे वो अपने राजनीतिक प्रतिद्वंदियों राहुल गांधी, मायावती और अखिलेश यादव को पप्पू, बुआ और बबुआ कहकर उनकी छवि खराब करना चाहते हैं और इसके लिए उन्होंने सब चैनस की क्रिएटिव टीम की मदद के लिए आग्रह किया। पुष्प ने कहा कि ये ऐसा होना चाहिए जैसे आजतक पर “so sorry” है। अधिकारी ने हां में हां मिलाते हुए कहा So Sorry हाँ

इसके बाद पुष्प ने अधिकारी से बातचीत में कहा कि जब हम अपने राजनीतिक प्रतिद्विंदियों को मारेंगे उस वक्त आप अपने डिजिटल प्लेटफॉम के जरिए हमारे बड़े और नामी कट्टर हिंदुवादी नेताओं का महिमामंडनस करें। पुष्प ने अपना एजेंडा अधिकारी को बताकर पूछा कि ये हमारी तीन जरूरतें होंगी क्या आप इसके लिए राजी हैं इस पर अधिकारी ने सहमति जताते हुए कहा कि “We are…”

loading...
Loading...

पुष्प ने आगे कहा कि जैसे ही हमारा दूसरा और सेमी-पॉलिटिकल चरण समाप्त होगा हम अपने अभियान को और ज्यादा आक्रामक बनाएंगे जैसे ही चुनाव नज़दीक आएंगे। ऐसे में अगर जरूरत पड़ी तो हम सांप्रदायिक कार्ड भी खेलेंगे। ऐसा कहकर अपने एजेंडे का असली मकसद अधिकारी को बताया जिसे सुनते ही अधिकारी ने कहा कि नहीं नहीं वो वैसा कार्ड खेलते हैं तो आप polarize क्यों न करें ऐसा कहकर अधिकारी ने राजनीतिक पक्षपात वाले मीडिया अभिचान पर अपनी सहमति जताई। अधिकारी ने पुष्प को आश्वासन दिया कि वो एक अच्छे प्लान के साथ उनसे दोबारा मिलेंगे। अभी क्या है हम एक ऐसा प्लान बनाते हैं  Masti, Myboli, as well as special editorial, special supplements, jackets cover  … jackets cover, special editorial, special supplement, digital advertisement on governance.com,अच्छी  reach hai उसकी  web site banners, EDMs वो सब बना देंगे

पुष्प ने अधिकारी से कहा कि ठीक है इसके साथ आगे बढ़ते हैं इसपर अधिकारी ने पुष्प को अपने एक पाक्षिक की कॉपी थमाते हुए कहा कि बिल्कुल आगे बढ़ते हैं ये रखिए आप शर्मा ने अधिकारी से पूछा कि क्या आप संगठन के बड़े हिंदुवादी नेताओं के इंटरव्यू छाप सकते हैं अधिकारी इसके लिए भी तैयार हो गए। यहां से निकलने से पहले पुष्प ने अधिकारी से कहा कि उम्मीद करता हूं कि आप ये मीडिया कैंपेन अपनी देख-रेख में बढ़िया तरह से चलवाएंगे। इस पर अधिकारी ने कहा कि Emotional connect है दिल से भी हम जो हैं विचारधारा मिलती ही है बस आपका एक go ahead मिलेगा हम पूरा इसमें लग जाएंगे  आखिर में अधिकारी ने कहा, नहीं नहीं आपको पूरा agenda endतक ले जाएंगे ” 

डीएनए

अरूण शिंदे, साउथ रिजन हेड; आराध्या कुलश्रेष्ठ, मैनेजर स्पेशल इनिशिएटिव्स, डीएनए (डेली न्यूज़ एंड एनालेसिस); रजत कुमार, चीफ रिवेन्यू ऑफिसर, ज़ी सिनर्जी

साल 2005 में लॉन्च होने के बाद से लगातार मुंबई, अहमदाबाद, पुणे, जयपुर, बैंगलुरू और इंदौर से प्रकाशित होने वाला डीएनए..आज मुंबई में दूसरा सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला अंग्रेजी अखबार है। ज़ी और दैनिक भास्कर के ज्वाइंट वेंचर वाले डीएनए अखबार का मुंबई में जबरदस्त सर्कुलेशन है। हर रोज़ इसकी करीब 4,56,000 कॉपियां महानगर में बेची जाती हैं, इससे पता लगता है कि ये मायानगरी में कितना लोकप्रिय है खासकर एक ऐसे युग में जहां अखबारों में खबरों की जगह दिन-ब-दिन सिकुड़ती जा रही है। करीब एक दशक के भीतर इस अखबार ने जबरदस्त लोकप्रियता और प्रतिष्ठा हासिल की है। पुष्प शर्मा ने ये जानने की कोशिश की कि क्या वाकई डीएनए अखबार के मार्किटिंग अधिकारी भी इस प्रतिष्ठा को बनाए रखने में सजग हैं।

अफसोस की बात ये है कि अपने क्लाइंट को खुश करने के लिए अरूण शिंदे और उनकी सहयोगी आराध्या कुलश्रेष्ठ ने सभी नियमों को तक पर रख दिया था। ये जानने के लिए कि क्यो ये दोनों खुद फैसले लेने की क्षमता रखते हैं, पुष्प शर्मा ने इनसे कहा कि वो मार्किटिंग डिपार्टमेंट के किसी बड़े अधिकारी से मिलना चाहते हैं जिसकी बात में वजन हो और जिसके अंदर फैसले लेने की क्षमता हो। कुलश्रेष्ठ ने कहा, “So I am the sole person when it comes to the surrogate content marketing or surrogate …” इसके बाद पुष्प शर्मा ने इन्हें अपने एजेंडे के बारे में बताया शुरू किया। एजेंडे के तहत पुष्प ने इन्हें हिंदुत्व का प्रचार, विनय कटियार और मोहन भागवत जैसे बड़े हिंदुवादी नेताओं के भाषणों का प्रचार-प्रसार करने को कहा। साथ ही कार्टून की मदद से राहुल गांधी, अखिलेश यादव और मायावती के व्यक्तित्व की धज्जियां उड़ाने को भी बोला। जिस दौरान पुष्प शिंदे और कुलश्रेष्ठ से बातें कर रहे थे उस वक्त इन दोनों की जुबां से एका-एक “yeah yeah”, “okay”, “correct” जैसे शब्द सुनाई दे रहे थे। अपनी बातचीत के दौरान पुष्प ने इन दोनों से पूछा कि क्या आप समझ रहे हैं मैं क्या कहना चाहता हूं कुलश्रेष्ठ ने जवाब दिया कि “I have” पुष्प ने सवाल पूछा कि आप कैसे यू-ट्यूब औ सोशल मीडिया के माध्यम से हमारे बड़े हिंदुवादी नेताओं के भाषणों का प्राचर करेंगे। शिंदे ने जवाब दिया “We will do it parallel so …” पुष्प ने इन से combo के बारे में पूछा तो कुलश्रेष्ठ ने जवाब दिया “Going to be on all the pattern??? so if you are running anything on print it will be there on digital and will be there on other platform as well.” इसके बाद पुष्प ने इनसे कहा कि आपको प्रिंट और सोशल मीडिया के जरिए राहुल गांधी, मायावती और अखिलेश यादव का कार्टून के जरिए मखौल उड़ाना होगा। पप्पू, बुआ और बबुआ जैसे नाम से इनके जरिए इनके चरित्र की धज्जियां उड़ानी होंगी। इस बात पर भी शिंदे और कुलश्रेष्ठ राजी हो गए। डील पक्की होने के बाद पैसे के लेन-देन पर चर्चा शुरू हुई। पुष्प ने इनसे पूछा कि क्या आप ज्यादातर पैसा कैश में ले सकते हैं। शिंदे ने yes, “We will figure that out.”  कहकर इस पर भी अपनी सहमति जताई। पुष्प ने इनसे एक और सवाल पूछते हुए कहा तो, आप अभियान के अगले चरण कैसे करेंगे? शिंदे ने जवाब दिया “We will design this first we will work out on this campaign will again meet … Will share the concepts with you … and then we will take it forward.” इसके बाद पुष्प ने इनसे कैंपने के तीसरे फेज़ यानि की आक्रामक रूप से मतदाताओं को प्रोत्साहित करने और ध्रुविकृत करने के बारे में पूछा तो शिंदे ने “Understood,” कहकर हामी भर दी और साथ में बैठी कुलश्रेष्ठ ने भी अपने सहयोगी की हां में हां मिलाते हुए ठीक है कह दिया।

पुष्प शर्मा ने ज़ी सिनर्जी के चीफ रिवेन्यू ऑफिसर रजत कुमार से भी मुलाकात की। ये भी डीएनए अखबार का कामकाज देखते हैं। ये मीडिया के पुराने जानकार हैं और सौदेबाजी के हर पैंतरे को बखूबी जानते हैं। जैसे ही पुष्प ने इन्हें अपने एजेंडे के बारे में बताया रजत ने सबसे पहले अपने बारे में बताना शुरू किया, कि वो कौन हैं, कहां ने इन्होंने काम की शुरूआत की और कैसे वो एक अभियान को रणनीतिक बना सकते हैं। तो हमें पता चला कि इन्होंने कई राजनीतिक अभियानों को देखा है, और इन्होंने सभी सरकारों के मीडिया अभियानों पर काम भी किया है ताकि जनता में उनकी अच्छी छवि को प्रस्तुत किया जा सके। यहां इन्होंने एक उदाहरण देते हुए बताया कि इन्होंने ही कोरेगांव प्रकरण के बाद महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फड़नवीस के मीडिया सलाहकार को दलितो के लिए सलाह देते हुए कहा, तो मैंने कहा कि अगर आप अगर उसको बढ़ने दोगे तो एक नया हार्दिक पटेल खड़ा होगा ठीक है… लेकिन उसके लिए अचानक से आप सोचोगे कुछ कर दोगे तो नहीं हो पाएगा… अभी से आपको काम करना पड़ेगा और काम करना पड़ेगा दलितों के लिए. आपको कुछ ऐसा फेस दिखाना पड़ेगा कि आप दलित को पूरे समाज को कनेक्ट कर रहे हो थोड़ा सा उनको कनफ्यूज़न में डालना होगा पहले फिर धीरे-धीरे वो आपकी तरफ आएंगे

अपने राजनीतिक दृष्टिकोण की तारीफ करते हुए पुष्प ने रजत से कहा वो पहले ही इनके सहयोगियों को अपने एजेंडे के बारे में बता चुके हैं और उम्मीद करते हैं कि उनकी बातें आप से हो गई होंगी। रजत ने जवाब देते हुए कहा कि मैं समझ गया बात हो गई थी पुष्प ने बताया आप जानते हैं कि मुझे जो काम सौंपा गया है वह कम से कम एक यज्ञ नहीं है और मुझे इसकी ज़रूरत है कि आप इसे सफल बनाने में मदद करें। इस पर शर्मा ने आश्वासन देते हुए कहा कि बिल्कुल मैं इसमें बहुत युद्ध गति से काम करता हूं। 

अमर उजाला

अनुज त्यागी, Deputy GM (Media Solutions) Noida; नवजीत कुमार, Marketing Officer, Una, Himachal Pradesh; मोहित शर्मा, Asociate Vice President (Marketing); भरपूर सिंह, GM (Media Solutions); कंवलजीत सिंह, Sr.Marketing Manager (Media Solutions), Chandigarh; संजीव रस्तोगी, Dy. Manager (Media Solutions), Meerut; हरप्रीत कौर, Manager sales , Mumbai; हिमांशु गौतम, Business Head; आशीष विमल गर्ग, Sr. Manager, amarujala.com, Delhi

आज़ादी के एक साल बाद आगरा से शुरू हुए हिन्दी भाषा के अखबार अमर उजाला के अब 19 editions है जो उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, जम्मू, हरियाणा, पंजाब और दिल्ली एनसीआर से छपते है। Indian Readership Survey के मुताबिक अमर उजाला के पाँच million पाठक है। अमर उजाला की ही कर्मचारी के मुताबिक अमर उजाला के फ़ेसबूक पर 72 लाख, ट्विटर पर 7 लाख, Instagram पर 2 लाख followers है। इससे आसानी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि कंटैंट से छेड़छाड़ होने पर किस हद तक देशभर में पाठको को प्रभावित किया जा सकता है। वरिष्ठ पत्रकार पुष्प शर्मा ने अमर उजाला के विभिन्न शहरों में तैनात नौ अधिकारियों से मुलाक़ात की। पुष्प सबसे पहले अनुज त्यागी, Deputy GM (Media Solutions) Noida से मिले और अपना एजेंडा जिसमें हिन्दुत्व के साथ jingles द्वारा पॉलिटिकल rivals पर कटाक्ष, मोहन भागवत के भाषण के प्रचार के बारे में बात की और पूछा कि कैसे इसे प्रिंट और डिजिटल दोनों माध्यमों पर चलाया जा सकता है। जवाब में अनुज त्यागी ने कहा, “हाँ वो आपको विडियो प्रमोशन हो जाएगा विडियो बना लीजिए तीन चार मिनट का वो विडियो live हो जाएगा”। शर्मा के एजेंडा दोहराने पर त्यागी ने जवाब दिया, “That I will check with my editorial department. That is not an issue.”

शर्मा की मुलाक़ात इसके बाद हिमाचल प्रदेश के ऊना शहर में नवजीत कुमार से हुई जो यहाँ अमर उजाला के Marketing Officer हैं। पुष्प ने नवजीत को एजेंडा समझाया जिस पर नवजीत ने अपने जवाब में, “बिल्कुल, जी, ठीक है” जैसे शब्दों  का इस्तेमाल किया। पुष्प की मायावती और राहुल गांधी जैसे अपने पॉलिटिकल rivals को thrash करने की बात पर नवजीत ने कहा, “प्रिंट में भी हो सकता है”। पुष्प के आगे ये कहने पर कि ऐसे कंटैंट में इन नेताओं के पप्पू जैसे nicknames का उपयोग कर माहौल बनाया जा सकता है नवजीत बोले, “कर लेते हैं” नेगेटिव खबरों जैसे जीएसटी और पार्टी नेताओं के कारनामों को फ्रंट पेज पर प्रमुखता न देकर अंदर कही छापने की बात पर भी नवजीत तैयार थे और बोले, “ये ज्यादा अच्छा रहेगा”।

पुष्प की मुलाक़ात चंडीगढ़ में मोहित शर्मा, Asociate Vice President (Marketing), भरपूर सिंह, GM (Media Solutions) और कंवलजीत सिंह, Sr.Marketing Manager (Media Solutions) से भी हुई। हिन्दुत्व के प्रचार से पंजाब में पकड़ बनाने और 2019 के चुनाव के लिए माहौल बनाने के बाद राजनीतिक रंग देने की बात पर कंवलजीत सिंह ने पूछा, “ओके ओके यानि आप हिंदुत्व की बात करेंगे” और आगे बोले, “बिल्कुल बिल्कुल सर”। बातचीत आगे बढ़ी और पुष्प ने पूछा कि आपकी डिजिटल presence है? इसका जवाब मोहित ने दिया और कहा, e-Paper हाँ That will go, but if you looking for a separate platform we can create that if you are looking for it.”

बात जब satire के जरिए पॉलिटिकल rivals को thrash करने की आती है तो कंवलजीत कहते है, “Not directly, indirectly.” जब पुष्प फ़ायर ब्रांड हिंदू नेताओं के advertorial events को न्यूज़ के तौर पर छापने को बोलते है तो भरपूर सिंह कुछ इस तरह जवाब देते है, “हाँ  That’s is basically part and parcel when we are doing all the things.” डील का बड़ा हिस्सा कैश में देने की बात पर अमर उजाला के भरपूर सिंह कहते है, “नहीं नहीं हमारे को matter Third Eye से आएगा पेमेंट हमारे पास 50 परसेंट कैश और बाकी RTGS लोकल से आएगा before publishing the ad”

मीटिंग के आखिर में कंवलजीत कहते है, “एक बार न सर मेरे को creative print के जो creatives है क्योंकि हमें कुछ creatives अपने editorial से भी sanction करवाने होते है”

अमर उजाला में पुष्प की अगली मीटिंग मेरठ में Deputy Manager संजीव रस्तोगी से हुई। शर्मा संजीव को बताते है कि कैसे एजेंडा की शुरुआत सॉफ्ट हिंदुत्व से करने के बाद पॉलिटिकल rivals को thrash करना है। संजीव सब समझ जाते है और बोलते है, “हाँ मैं वही कह रहा हूँ जो focus है 2019 ही है हम उसकी preparation डेढ़ साल से कर रहे है धीरे धीरे उसको तापमान धीरे धीरे temperature add on करेंगे”

अमर उजाला देश के प्रमुख अखबारों में से एक है, अखबार का एक बड़ा ऑफिर मायानगरी मुंबई में भी है। अमर उजाला के मुंबई ऑफिस में पुष्प शर्मा की मुलाकात सेल्स मैनेजर हरप्रीत कौर से हुई। पुष्प ने हरप्रीत को अपना एजेंडा समझाते हुए बताया कि हम हिंदू वोट बैंक को मजबूत करने के लिए अपने राजनीतिक प्रतिद्वंदियों के नाम बिगाड़कर उनकी छवि खराब करने की कोशिश करेंगे। हम आपके अखबार के माध्यम से राहुल गांधी, मायावती और अखिलेश यादव का जनता के सामने पप्पू, बुआ और बबुआ जैसे नाम से दुषप्रचार करेंगे। पुष्प ने हरप्रीत को बताया कि अमर उजाला मुंबई के लिए उनका भारी भरकम बजट है और वो इस काम के लिए आपकी कंपनी को 50 लाख रुपये प्रति माह देंगे और अगर अखबार ने हमारी मर्जी के मुताबिक अच्छा सहयोग किया तो आने वाले दिनों में ये बजट और बढ़ा दिया जाएगा। इस पर हरप्रीत ने अपनी सहमति जताते हुए “Ok sir” कह दिया।

पुष्प ने बताया कि अपने कैंपेन के अगले चरण में जैसे ही चुनाव नज़दीक आ जाएंगे हम अपने अभियान को उग्र करते हुए एक अदद माहौल बनाएंगे और वोटों का ध्रुवीकरण करेंगे। हरप्रीत को इस सांप्रदायिक एजेंडे से कोई दिक्कत नहीं थी उन्होंने पुष्प की हर बात का जवाब हूं, हां और ओके कहकर दिया। बातचीत आगे बढ़ी हरप्रीत ने पुष्प को बताया कि उनके अखबार की उत्तरप्रदेश में तगड़ी पहुंच है। इसपर पुष्प ने कहा कि अगर ऐसी बात है तो हम उनसे भी संपर्क करने की कोशिश करेंगे लेकर उससे पहले आपको हमारे साथ मिलकर चलना होगा और हमारे राजनीतिक प्रतिद्वंदियों जैसे कांग्रेस, समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के खिलाफ ज्यादा से ज्यादा खबरें प्रकाशित कर एक माहौल तैयार करना होगा। पुष्प ने हरप्रीत को जब ये कहा कि आप अपने अखबार में हमारी पार्टी के विरोध में खबरें प्रकाशित न करें। इसपर     हरप्रीत ने बड़ी आसानी से “okay” कह दिया।

पुष्प ने जब इनसे सोशल मीडिया के बारे में पूछा तो हरप्रीत ने कहा “Amar Ujala has 72 lakh followers on Facebook, 7 lakh on Twitter and 2 lakh on Instagram” पुष्प ने पूछा कि क्या आप हमारे मीडिया कैंपने को सोशल मीडिया के इन सभी प्लेटफॉर्म से जोड़ेंगे तो हरप्रीत ने कहा, “हम लोग वो कवर करेंगे, आपका सोशल सिटिंग भी करेंगे, आपका ट्विटर में भी करेंगे Twitter mein Facebook mein we are very strong … तो उसमें हम लोग आपका सोशल सिटिंग करेंगे उसमें आपका लाइक कंटेंट भी हम कर सकते हैं। We can do video running also” पुष्प ने हरप्रीत से पूछा कि इसके लिए क्या अलग से पैसा देना होगा तो हरप्रीत ने जवाब दिया, “नहीं नहीं that आपको एक पूरा package sort of मैं बना के दे सकती हूं ” “तो वो मुझे like senior हैं हिमांशु गौतम करके हैं. He doesn’t sit here. He sits in Delhi only. तो मैं वो डिस्कस करूंगी उनके साथ..even Gagan is there. तो पहले मैं आपका पूरा briefing discuss करूंगी कि this and so and so देख रहे हो तो हमारी साइड से तो उस हिसाब से क्या-क्या कर सकते हैं ”।

अब पुष्प के लिए अमर उजाला के दिल्ली में बैठे वरिष्ठ अधिकारियों से मिलना भी जरूरी हो गया था। पुष्प ये जानना चाहते थे कि जो कुछ भी हरप्रीत कह रही हैं क्या उनके सीनियर भी उस बात पर रजामंद हैं। लिहाजा पुष्प ने अमर उजाला के दिल्ली दफ्तर में हिमांशु गौतम, आशीष विमल गर्ग से मुलाकात की और उन्हें अपने एजेंडे के बारे में बताया। पुष्प ने बताया कि हिंदुत्व के पहले चरण के बाद वो अपने राजनीतिक प्रतिद्वंदियों को हराने के लिए पप्पू, बुआ और बबुआ जैसे नामों से उनकी छवि खराब करेंगे। इसके बाद पुष्प ने इन्हें पप्पू वाली एक जिंगल का ऑडियो भी सुनाया और बताया कि इस तरह हमें इन लोगों की छवि मिट्टी में मिलानी है इसपर गौतम ने “sure” कहकर अपनी रजामंदी जाहिर की।

पुष्प ने इन्हें बताया कि कर्नाटक चुनाव को लेकर उनके पास ऐसे 30 जिंगल्स तैयार है और इसी तर्ज पर वो कुछ यूपी के लिए कटेंट चाहते हैं। पुष्प ने पूछा कि क्या आपके पास ऐसी क्रिएटिव टीम है जो इस आइडिया पर काम करने में सक्षम हो। इस पर सेल्स हेड गौतम ने कहा कि “वो करा सकते हैं..हां करा देंगे ये तो normal advertising की तरह जाएगा ना हमारे लिए ?” पुष्प ने जब पूछा कि आप नॉर्मल से क्या कहना चाहते हैं तो गौतम ने बताया कि “इसमें ऐसा जाएगा ना जैसे जिंगल्स रहेगा आपका ?” पुष्प ने इन लोगों से ये भी जानने की कोशिश की कि अगर आपके पास मोबाइल app हैं तो उसके जरिए आप किस तरह हमारे एजेंडे का प्रमोशन कर सकते हैं इसपर गौतम का जवाब आया “हम लोग इसको वीडियो में embed कर देंगे” इतना ही नहीं गौतम ने आश्वासन देते हुए कहा कि “ये हम regular basis पर करेंगे आपके साथ ” गौतम ने इस बात का भी भरोसा दिया कि डिजिटल प्लेटफॉर्म के अलावा वो मोबाइल एप के जरिए भी उनके एजेंडे का प्रमोशन करेंगे। इसके बाद गौतम पुष्प को समझाते हुए कहते हैं कि “आपका जैसे जब on होगा ला जैसे.. या जैसे कोई site खोली पहले ये आ जाएगा..साइड में नहीं पूरे app में आ जाएगा”गौतम के सहयोगी Ashish Garg ने समझाते हुए कहा कि “जैसे इस तरह का होगा ये जो banner आप देख रहे हैं इस तरह के जो banners  हैं..ये रहते हैं ” गौतम बताने लगे “ये सब banners यूं ही चलते रहेंगे इस पर बढ़िया banner बन जाएगा यहां पर भागवत जो भी समिति है..उसका आ जाएगा और वो पूरी messaging आ जाएगी ” इसके बाद सौदेबाजी और GST वगैरह पर चर्चा होने लगी।

इसके बाद गौतम ने पुष्प से कहा कि जब वो उनकी कंपनी के दूसरे लोगों से मिलेंगे तो उस वक्त सिर्फ भगवद गीता के बारे में ही बताएं। पुष्प ने पूछा कि क्यों मुझे उनसे अपना हिंदुत्व वाला एजेंडा नहीं बताना है। इस पर गौतम ने बताया कि “हां उनसे मतलब unbiased बात करें देखिए मेरा तो background मुझे तो कोई फर्क नहीं पड़ता… मैने आपको क्या बोला कि मैं ये चीज़ें run कर सकता हूं मेरे लिए ये advertisement है इसमें कोई परेशानी की बात नहीं है.. internally मैं इसके लिए लड़ भी सकता हूं ये advertisement है इसके लिए

इसके बाद गौतम ने बताया कि आखिर वो इस एजेंडे को चलाने के लिए क्यों तैयार हुए हैं। गौतम ने पुष्प को समझाते हुए कहा कि आखिर क्यों उन्हें अखबार में निष्पक्ष रहना पड़ता है।  “but क्योंकि मैं online run करता हूं तो definitely कुछ चीज़े हैं हर कंपनी में क्योकि internally मेरे को पता है कि क्या चीज़ें काम करेंगी तो मान के चलिए वो चीज़ हम कोशिश करेंगे सारी चीज़ें करने की ”

पुष्प की तहकीकात यहीं खत्म नहीं होती। हाल ही में हुए यूपी उप चुनाव के नतीजों के बाद पुष्प ने अमर उजाला मुंबई की सेल्स मैनेजर हरप्रीत कौर से फोन पर बात की। पुष्प ने हरप्रीत से फोन पर कहा कि हम यूपी उप चुनाव में कुछ नेताओं की वजह से हार गए हैं इसलिए मैं चाहता हूं कि आप उनके विरोध में खबरें बनाएं। पुष्प ने इन नेताओं में मेनका गांधी, अनुप्रिया पटेल और उपेन्द्र कुशवाह का भी नाम लिया। पुष्प ने कहा कि ये सरकार में हमारे साथ तो हैं लेकिन ये लोग हमेशा पार्टी से मांग करते हैं। इस पर हरप्रीत ने कहा  तो आप बोल रहे हैं कि आपको अनुप्रिया पटेल और उपेन्द्र कुशवाह “okay” कहकर अपनी रजामंदी जाहिर की। इसके बाद पुष्प ने हरप्रीत से कहा कि देशभर में किसान आंदोलन कर रहे हैं आपको अपने अखबार के माध्यम से जनता में ये संदेश पहुंचाना है कि आंदोलन करने वाले किसान माओवादियों द्वारा उकसाए गए है जबकि वो सरकारी नीतियों से नाराज़ नहीं है इसपर भी हरप्रीत ने ओके, ठीक है कहकर पुष्प के एजेंडे को हरी झंडी दे दी।

पुष्प ने आगे हरप्रीत से कहा कि मुझे नागपुर में बैठे हमारे संगठन के नेताओं से ऐसा करने के आदेश हैं, इसलिए मैं आपको हमारी पार्टी के कुछ मंत्रियों और विधायकों को चलाने के लिए कहूंगा, इसपर भी हरप्रीत ने ओके, ठीक है कहकर अपनी सहमति दी। इसके बाद  पुष्प ने हरप्रीत को वित्त मंत्री अरुण जेटली के खिलाफ खबरें चलाने को कहा जिस पर हरप्रीत ने जवाब दिया, अरुण जेटली, okay”. पुष्प ने कहा कि अगर आप आधार कार्ड से जुड़ी कोई भी स्टोरी चलाते हैं तो याद रहे कि हर स्टोरी सकारात्मक हो, हरप्रीत ने दोबारा cross check करते हुए पूछा, आधार कार्ड के फेवर में ?” जिसका पुष्प ने हां में जवाब दिया।

पुष्प ने कहा कि जब हम विपक्ष में बैठे थे तब हमारी पार्टी सरकार की इस नीति का विरोध किया था चूंकि हम अब सरकार में हैं और हमने इसे हर सेवा के लिए अनिवार्य बना दिया है। अगर कल हमारी किसी भी नीति पर हमला होता है तो ये हमारे लिए अच्छा काम करेगा। हरप्रीत ने बात को समझते हुए दोहराया, “okay पॉजिटिव न्यूज़ ही देना हैहरप्रीत की तरफ से हर सवाल का हां में जवाब सुनकर पुष्प ने उनसे और ज्यादा विचित्र मांग की। पुष्प ने हरप्रीत से कहा कि कोबरापोस्ट, द वायर और स्क्रोल जैसे कुछ न्यूज़ पोर्टल हैं जिनके मालिक अनिरुद्ध बहल, सिद्धार्थ वर्धराजन हैं, ये लोग अक्सर हमारे खिलाफ खबरें प्रकाशित कर हमारी छवि खराब करते हैं, मैं इनके खिलाफ आपको कुछ सामग्री दूंगा फिर आपको इनके खिलाफ खबरें चलानी हैं। इस पर भी हरप्रीत राजी हो गईं और उन्होंने “okay” कहकर पुष्प की ये शर्त भी मान ली। अब पुष्प ने हरप्रीत से एक और विचित्र मांग की, पुष्प ने हरप्रीत से कहा कि मेनका गांधी का बेटा वरुण गांधी हमारी सरकार में मंत्री है। लेकिन वो कुछ ज्यादा ही महत्वाकांक्षी है। इसलिए हमें इस आदमी को ठीक करना है। मैं आपको इसकी सीडी दूंगा और जब मैं बोलूं आप इसे चला देना। सबसे हैरानी वाली बात ये है कि हरप्रीत इसके लिए भी तैयार हो गईं और उन्होंने बेहिचक पुष्प को “okay” कह दिया।

इस खबर से  bhadas4journalist.com का कोई सम्बन्ध नहीं है और न ही इसमे bhadas4journalist.com कोई योगदान है, यह खबर पूरी तरह से hindi.cobrapost.com से साभार लिया गया है

Loading...
loading...