साप्ताहिक अखबार के संपादक के घर से चोरों ने अलमारी तोड़कर उड़ाया सामान, जेवर-कैश, जूते चप्पल और गैस का सिलिंडरभी ले गए

ड्राइग रूम किचन सब खंगाला, गृहस्थी के सामान उठा ले गए, ढाई घंटे बाद आई पुलिस, एसएसपी और सीओ ने फोन करके चोरों को जल्द पकड़ने का आश्वासन दिया

गोमतीनगर के विरामखंड में मकान का ताला तोड़कर चोर लाखों रुपये के जेवर, कैश के साथ गृहस्थी का सारा सामान उठा ले गए। ब्रांडेड कपड़े, जूते, चप्पल और किचन से गैस का सिलिंडर तक पर हाथ साफ कर दिया। चोरों के बाउंड्री फांदकर भागते समय काफी सामान सड़क पर बिखर गया था। सूचना देने के ढाई घंटे बाद एक दरोगा दो सिपाहियों के साथ पहुंचे, लेकिन चोरों का सुराग नहीं लगा।

विरामखंड-2 निवासी मनोज कुमार दूबे मंगलवार को भतीजे के मुंडन संस्कार में शामिल होने परिवार के साथ बलिया गए थे। सुबह पांच बजे उनके पड़ोसी ने बताया कि घर का सामान बाउंड्री के बाहर सड़क पर बिखरा पड़ा है और मेन दरवाजा भी खुला पड़ा है। मनोज पहुंचे तो घर के अंदर की हालत देखकर दंग रह गए। सभी कमरों और अलमारियों के लॉक टूटे थे और घर का सारा सामान गायब था। अलमारी से करीब तीन लाख रुपये के जेवर और 15 हजार रुपये निकाले गए थे। ड्राइंग और बेडरूम से टीवी, कम्प्यूटर, स्टीरियो, फ्रिज सहित सभी महंगे सामान चोरी हो गए थे। चोर किचन से मिक्सर, गैस के दो सिलिंडर, ओवन उठा ले गए थे। मनोज ने बताया कि ब्रांडेड कपड़े और जूते भी चोरों ने नहीं छोड़े। मसाज का सामान और अलमारी में रखे क्रॉकरी के नए बर्तन भी चोर उठा ले गए।

बाउंड्री फांदकर अंदर आए, उसी रास्ते भागे

मनोज ने बताया कि बाउंड्री के गेट का ताला नहीं टूटा था। चोर बाउंड्री फांदकर अंदर आए थे और उसी रास्ते वापस भी गए हैं। चारों ने जहां से दीवार फांदी है वहां जूते के निशान मिले हैं। उसी जगह पर सड़क की तरफ काफी सामान बिखरा मिला है। उनका कहना है कि तीन से चार चोर डाला या सामान ढुलाई वाले किसी और वाहन से आए थे। कुछ चोर अंदर घुसे और कुछ गाड़ी लेकर बाउंड्री के पास खड़े थे। अंदर वाले दीवार के ऊपर से सामान बाहर खड़े साथियों को पकड़ा रहे थे। वारदात को अंजाम देने में चोरों को तीन से चार घंटे का समय लगा होगा। इस रोड पर पुलिस रातभर गश्त करने का दावा करती है, लेकिन घंटों तक सामान अंदर से बाहर करते हुए चोरों पर पुलिस की नजर नहीं पड़ी।

loading...
Loading...

मनोज ने बताया कि उनके सूचना देने के ढाई घंटे बाद एक दरोगा दो सिपाहियों के साथ पहुंचे। पुलिस वालों ने अंदर जाकर कुछ देर छानबीन की इसके बाद आपस में बातचीत करते हुए लौट गए। इसके बाद पीड़ित ने उच्चाधिकारियों से संपर्क किया तो एसएसपी और सीओ ने फोन करके चोरों को जल्द पकड़ने का आश्वासन दिया।

Loading...
loading...